हार्ट अटैक

दिल्ली। मशहूर एक्टर और बिग बॉस 13 के विनर रहे सिद्धार्थ शुक्ला (Sidharth Shukla) का हाल ही में हार्ट अटैक(Heart Attack) की वजह से निधन हो गया है। सिद्धार्थ शुक्ला की उम्र अभी महज 40 साल की थी, ऐसे में हार्ट अटैक से उनके निधन की आई अचानक खबर ने टेलीविजन की दुनिया से लेकर बॉलीवुड तक की दुनिया को हिला कर रख दिया है।


सिद्धार्थ शुक्ला अभिनय की दुनिया में बड़ा नाम थे। हर कोई उनके लुक और स्टाइल का मुरीद है। बिग बॉस के दौरान उन्होंने देश ही नहीं विदेशों में भी काफी प्रसिद्धि हासिल की थी। एक्टर शारीरिक रूप से भी पूरी तरह से स्वस्थ थे। वहीं बुधवार की रात को लेकर भी उनकी मां का कहना है कि वह पूरी तरह से स्वस्थ थे, उन्हें बस सीने में दर्द की शिकायत थी जिसके बाद वह दवाई लेकर सो गए और अगले दिन सुबह नहीं उठे।

सिद्धार्थ शुक्ला के निधन की खबर ने हर किसी को हिला कर रख दिया है। मालूम हो कि सिद्धार्थ शुक्ला लोगों को सोशल मीडिया के जरिए फिटनेस के बारे में जागरूक करते थे। ऐसे में उनके दिल का दौरा पड़ने की खबर हर किसी को चौका रही है। वही बात एक इंटरनेशनल रिसर्च की करें तो बता दे मौजूदा समय में युवाओं के बीच हार्ट अटैक का खतरा लगातार बढ़ रहा है। इस मामले पर हेल्थ एक्सपोर्ट का भी कहना है कि हार्ट अटैक के मामले इन दिनों युवाओं के बीच ज्यादा दर्ज किए जा रहे हैं। क्या है हार्ट अटैक के कारण(cause of heart attack) और कैसे बढ़ रहा है युवाओं के बीच इसका खतरा (Heart attack risk rising in youth), हार्ट अटैक से बचने के लिए आखिर क्या करना चाहिए (What to do to avoid heart attack), इस बारे में हम आपको अपने इस लेख में पूरी जानकारी देंगे।

लगातार बढ़ रहे हार्ट अटैक के मामलें

देश ही नहीं बल्कि विदेशों में भी युवाओं के बीच हार्ट अटैक के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं। इस मामले पर हेल्थ एक्सपोर्ट का कहना है कि हर दिन सैकड़ों की संख्या में युवाओं में हार्टअटैक के मामले दर्ज किए जाते हैं। एक्सपोर्ट का कहना है कि ऐसा इसलिए है क्योंकि इन दिनों युवाओं में तनाव और वर्क प्रेशर बेहद ज्यादा बढ़ने लगा है। यही कारण है कि हार्ट अटैक का शिकार लोग बेहद कम उम्र में हो रहे हैं। साथ ही खानपान भी इसका बड़ा कारण है। फास्ट फूड का अधिक सेवन शरीर को कमजोर बनाता है। इसके साथ ही हाई ब्लड प्रेशर और खून में कोलेस्ट्रॉल का बढ़ना, डायबिटीज होना या शारीरिक रूप से मोटापा बढ़ना भी हार्ट अटैक जैसी बीमारियों के बढ़ने के मुख्य कारण है।

वहीं इस मामले पर हेल्थ एक्सपोर्ट का यह भी कहना है कि भारत के लोगों में अनुवांशिकता के कारण भी हार्ट अटैक के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं। हार्ट अटैक के मामले को लेकर जारी की गई एक रिसर्च में जिक्र किया गया है कि 45 साल से कम उम्र के लोगों में एक्यूट मायोकार्डियल इंफ्राक्शन (AMI) के मामले 25 से 40 प्रतिशत तक दर्ज किए जा रहे हैं। हेल्थ एक्सपोर्ट द्वारा जारी की गई इस रिसर्च के मुताबिक इस बात का खुलासा भी किया गया है कि ग्रामीण युवाओं के मुकाबले शहरी युवाओं में हार्ट अटैक के ज्यादा मामले दर्ज किए जा रहे हैं।

मालूम हो कि रिसर्च में इस दावे का कारण तनाव के साथ-साथ खराब खान-पान, अनियमित जीवन शैली, काम का दिल और दिमाग पर अधिक प्रेशर भी माना जा रहा है।

हार्ट अटैक पर एक्सपर्ट की राय (Expert opinion on heart attack)

हेल्थ एक्सपर्ट के मुताबिक हार्ट अटैक से बचाव करना है तो यह बेहद जरूरी है कि हम अपने हर दिन की जीवन शैली और खान-पान से लेकर अपने काम तक के समय की एक तय सीमा रखें। इसके साथ ही किसी भी बात का प्रेशर एक सीमा तक ही दिमाग पर लेना चाहिए। हेल्थ एक्सपोर्ट का कहना है कि हार्टअटैक को रोकना मुश्किल है, लेकिन नामुमकिन नहीं… हालांकि इसके लक्षणों के बारे में युवाओं को खासतौर पर जानकारी रखनी चाहिए। ऐसे में अगर समय रहते हार्ट अटैक के लक्षण की पहचान हो जाए, तो इससे बचा जा सकता है या समय रहते इलाज मिल सकता है।

क्या है हार्ट अटैक के लक्षण (What are the symptoms of heart attack)

यदि सीने में दर्द हो या सीने के आसपास के हिस्से में दर्द हो, शरीर में अजीब तरह की बेचैनी महसूस हो…तो यह दिल का दौरा पड़ने के लक्षण हो सकते हैं। इसके साथ ही शरीर में भारीपन का महसूस होना, सीने के आसपास के हिस्से में दर्द महसूस होना, सिकुड़न या किसी तरह की चुभन का एहसास होना, शरीर के ऊपरी हिस्से जैसे- गले में, पेट में, पीठ में, हाथों में दर्द का एहसास होना भी हार्ट अटैक के लक्षण हो सकते हैं। ऐसे में समय रहते इस तरह के दर्द पर अपने डॉक्टर की सलाह जरूर लें।

सांस लेने में अगर किसी तरह की परेशानी हो रही है या अचानक से पसीना आने लगा है, जी मिचलाने लगा है, सर में बहुत तेज दर्द शुरू हो गया है और उल्टी जैसी संभावना भी लग रही है, तो यह लक्षण भी हार्टअटैक के हो सकते हैं। ऐसे लक्षण शरीर में दिखने पर अपने डॉक्टर से जरूर संपर्क करें।

क्यों बढ़ रहे हार्ट अटैक के मामले

“डॉ अनामिका तिवारी” (फिजियोथैरेपिस्ट) का कहना है कि इन दिनों 30 से 40 साल की उम्र के लोगों में अचानक से दिल का दौरा यानी कार्डियक अरेस्ट के मामले बढ़ने लगे हैं। इसका सबसे बड़ा कारण स्ट्रेस, वजन का बढ़ना, डायबिटीज होना, कोलेस्ट्रॉल का बढ़ना, बीपी में तेजी दर्ज होना आदि माना जा रहा है। आजकल युवाओं में लाइफस्टाइल तेजी से बदल रहा है। खान-पान का ध्यान रखना युवा अक्सर अपने काम की प्रायोरिटी के बाद ही रखते हैं। ऐसे में शारीरिक तौर पर उनके कमजोर होने वह काम का प्रेशर अधिक होने के कारण हार्ट अटैक की समस्या बढ़ रही है।

दिल की धड़कन का रखें खास ध्यान

हेल्थ एक्सपर्ट्स का कहना है कि दिल का दौरा पड़ने से पहले हार्ट बीट में बदलाव होता है। ऐसे में अगर आप की हार्ट बीट कुछ सेकंड से असामान्य है, तो तुरंत ही अपने नजदीकी डॉक्टर से इस मामले में संपर्क करें। यह हार्टअटैक का कारण हो सकता है।

सीने में दर्द को ना करें अनदेखा

सीने या सीने के आसपास के हिस्से में किसी तरह का दर्द महसूस हो, तो इसे बिल्कुल भी अनदेखा ना करें। खास तौर पर सीने में बाईं तरफ किसी भी तरह का दर्द महसूस हो तो ध्यान रखें कि यह हार्टअटैक के शुरुआती लक्षण हो सकते हैं। इसके साथ ही यदि आपको हार्ट ब्लॉकेज भी महसूस हो रहा हो, तो तुरंत ही डॉक्टर से संपर्क करें। यह दिल का दौरा पड़ने के शुरुआती लक्षण हो सकते हैं।

कंधे में दर्द बढ़ा सकता है परेशानी

सीने में दर्द के अलावा यदि आपके कंधे में खास तौर पर बाय तरफ के कंधे में बिना किसी कारण लगातार तेज दर्द हो रहा है, तो इसे अनदेखा बिल्कुल ना करें। तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें और इस बारे में सलाह लें। यह हार्ट अटैक का कारण हो सकता है।

बेचैनी होना और पसीना आना

बिना थकावट वर्कआउट या अचानक से शरीर में बेचैनी होना, जकड़न लगना या पसीने आना भी हार्ट अटैक के लक्षण हो सकते हैं। शरीर में इस तरह के बदलाव को अनदेखा ना करें और डॉक्टर से सलाह लें।

उल्टी महसूस होना और सांस लेने में दिक्कत

शरीर में घबराहट के साथ-साथ उल्टी का महसूस होना या सांस लेने में दिक्कत होना हार्ट अटैक का कारण हो सकता है। इसके साथ ही पेट में दर्द हो तो ज्यादा सतर्क रहें और डॉक्टर से तुरंत संपर्क करें। ऐसी हालत में डॉक्टर की सलाह लेना बेहद जरूरी है। इस दौरान अगर शरीर में कमजोरी महसूस हो या हाथ पैर ठंडे पढ़ने लगे है, तो इस बात का जिक्र भी डॉक्टर से जरूर करें।

तेजी से बढ़ रहे हार्ट अटैक के मामलों पर एक्सपर्ट्स का कहना है कि यदि कार्डियक अरेस्ट (Heart Attack) से बचना है तो जल्द से जल्द अपनी इन आदतों को बदल दें। यह आदतें हार्ट अटैक का बड़ा कारण मानी जाती है।

“फिजियोथैरेपिस्ट डॉक्टर अनामिका तिवारी” के मुताबिक हार्ट अटैक से बचना है तो बदले यह आदत

  1. आलसीपन बन सकता है खतरा

इन दिनों दुनिया भर में ज्यादातर कंपनियां वर्क फ्रॉम होम के स्ट्रक्चर पर काम कर रही हैं। ऐसे में ऑफिस आने जाने वाले लोग भी काफी आलसी हो गए हैं। अमेरिकन हॉट एसोसिएटेड द्वारा जारी की गई रिपोर्ट के मुताबिक जो लोग एक जगह बैठे रहते हैं, उनमें हार्ट फैलियर का खतरा सबसे ज्यादा होता है।

2. ना करें ज्यादा नमक का सेवन

सादा नमक का सेवन करने वाले लोगों में हाई ब्लड प्रेशर की परेशानी के मामले दर्ज किए जाते हैं। ऐसे में दिल की बीमारी हाई ब्लड प्रेशर के कारण भी बढ़ सकती है। बता दे बाजार से खरीदे गए पैकेट वाले सूप, फ्रोजन, डिनर्स, और चिप्स का सेवन बेहद कम मात्रा में करना चाहिए क्योंकि इनमें नमक की मात्रा बेहद अधिक होती है। शरीर में सोडियम की मात्रा बढ़ने के कारण हार्ट अटैक हो सकता है।

3. ज्यादा शराब पीना है नुकसानदायक

ज्यादा शराब पीने के कारण शरीर में ब्लड प्रेशर स्ट्रोक और मोटापे जैसी परेशानियों के लक्षण देखे जाते हैं, जो आगे चलकर दिल की बीमारी का एक बड़ा कारण बनते हैं। ऐसे में ज्यादा मात्रा में शराब का सेवन करना दिल के लिए खतरनाक है।

4. डेली रूटीन में एक्सरसाइज ना करना

30 साल की उम्र के लोगों में हार्ड अटैक के मामले इसलिए भी ज्यादा बढ़ रहे हैं क्योंकि वह फिटनेस के मामले में काफी लेजी होते हैं। ऐसे में आलस करने के बजाय हर दिन एक्सरसाइज और हेल्दी डायट आपके और आपके दिल के लिए बेहद जरूरी है।

5. अच्छी नींद है जरूरी

दिल हर इंसान के शरीर में 24 घंटे काम करता है। आप सो रहे हैं या जग रहे हैं दिल की धड़कन हमेशा चलती रहती है। ऐसे में यह बेहद जरूरी है कि आप अपनी 8 घंटे की पूरी नींद ले। बता दे सोते समय हर इंसान का हार्ट रेट और ब्लड प्रेशर उनके सपनों के आधार पर फ्लकचुएट करता है। ऐसे में यह बेहद जरूरी है कि आप अपनी नींद पूरी करें।

लेखक: कविता तिवारी


For More Daily Updates Visit Our Facebook Page.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *