इंफाल भारत जोड़ो न्याय यात्रा को मणिपुर सरकार ने नहीं दी मंजूरी, अब थोउबल जिले से हो सकती है शुरुआत

भारत जोड़ो न्याय यात्रा को मणिपुर सरकार ने नहीं दी मंजूरी, अब थोउबल जिले से हो सकती है शुरुआत

भारत जोड़ो न्याय यात्रा को मणिपुर सरकार ने नहीं दी मंजूरी, अब थोउबल जिले से हो सकती है शुरुआत

इंफाल।

कांग्रेस की भारत जोड़ो न्याय यात्रा की शुरुआत 14 जनवरी को मणिपुर के जिस ग्राउंड से होनी है, उसे मणिपुर सरकार ने मंजूरी नहीं दी है। आज राज्य के कांग्रेस चीफ केशम मेघचंद्रा ने मणिपुर के मुख्यमंत्री एन बीरेन से मुलाकात की और उनसे इस यात्रा को इंफाल के पैलेस ग्राउंस से शुरू करने की अनुमति देने की गुजारिश की, लेकिन मुख्यमंत्री नहीं माने।

केशम ने मीडिया को बताया कि उन्होंने सीएम को मनाने की कोशिश की, लेकिन वे नहीं मना पाए। उन्होंने कहा कि मैंने मुख्यमंत्री को बताया कि हम इस यात्रा के दौरान कांग्रेस का झंडा नहीं फहराएंगे, न ही ये यात्रा राजनीतिक होगी। इसके बावजूद मुख्यमंत्री का यात्रा की मंजूरी देने से इनकार करना दुर्भाग्यपूर्ण है। अब हम इस यात्रा को थोउबल जिले में प्राइवेट प्रॉपर्टी से शुरू करने पर विचार कर रहे हैं।

बता दें इससे पहले सीएम बीरेन सिंह ने कहा था कि कांग्रेस की भारत जोड़ो न्याय यात्रा को अनुमति देने पर सक्रियता से विचार चल रहा है। सुरक्षा एजेंसियों से रिपोर्ट मिलने के बाद इस पर फैसला लिया जाएगा। तब कांग्रेस के संगठन महासचिव केसी वेणुगोपाल ने कहा था कि ये राजनीतिक यात्रा नहीं है, इसलिए सरकार को इसका राजनीतिकरण नहीं करना चाहिए। यात्रा का मकसद अशांत मणिपुर के लोगों के घावों को भरना और नफरत खत्म करके प्रेम का संदेश फैलाना है।

वहीं दिल्ली में कांग्रेस के जनरल सेक्रेटरी जयराम रमेश और केसी वेणुगोपाल ने इस यात्रा का रोड मैप और पैम्फलेट जारी किया। था गौरतलब है कि कांग्रेस सांसद राहुल गांधी 14 जनवरी से भारत जोड़ो न्याय यात्रा शुरू करेंगे। यह यात्रा मणिपुर से शुरू होकर 20 मार्च को मुंबई में खत्म होगी। लोकसभा चुनाव से करीब 4 महीने पहले होने वाली यह यात्रा 14 राज्य और 85 जिलों को कवर करेगी। इस दौरान राहुल पैदल और बस से 6 हजार 200 किलोमीटर से ज्यादा की दूरी तय करेंगे।

और पढ़ें