jaipur प्रदेश में दूसरे चरण के मतदान के लिए पुलिस के पुख्ता इंतजाम, करीब 85 हजार अधिकारी और जवान संभालेंगे सुरक्षा का जिम्मा

प्रदेश में दूसरे चरण के मतदान के लिए पुलिस के पुख्ता इंतजाम, करीब 85 हजार अधिकारी और जवान संभालेंगे सुरक्षा का जिम्मा

प्रदेश में दूसरे चरण के मतदान के लिए पुलिस के पुख्ता इंतजाम, करीब 85 हजार अधिकारी और जवान संभालेंगे सुरक्षा का जिम्मा

जयपुर। राजस्थान पुलिस द्वारा द्वितीय चरण के लोकसभा निर्वाचन क्षेत्रों पाली, जोधपुर, बाड़मेर-जैसलमेर, जालोर-सिरोही, राजसमंद, उदयपुर, बांसवाड़ा-डूंगरपुर, चित्तौड़गढ, कोटा-बूंदी, झालावाड़-बारां, टोंक-सवाईमाधोपुर, अजमेर एवं भीलवाड़ा में भय मुक्त वातावरण में स्वतंत्र, निष्पक्ष और शांतिपूर्ण मतदान के लिए सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए गए हैं। पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) उत्कल रंजन साहू ने बताया कि द्वितीय चरण में शांति और कानून व्यवस्था बनाए रखने के लिए राजस्थान पुलिस बल के साथ केंद्रिय सशस्त्र बलों की कम्पनियां और होमगार्ड्स के जवानों को तैनात किया गया है। उन्होंने बताया कि राजस्थान पुलिस करीब 85 हजार अधिकारी एवं जवानों के अलावा केंद्रिय सशस्त्र बल और विशेष सशस्त्र बल की 175 कम्पनियाँ, राजस्थान शहरी-ग्रामीण होमगार्ड के 18 हजार 400 तथा बोर्डर होमगार्ड के 1600 जवानों को फील्ड में तैनात किया गया है।

डीजीपी साहू ने प्रदेश में शुक्रवार को लोकसभा चुनावों के द्वितीय चरण में 13 निर्वाचन क्षेत्रों में शांतिपूर्ण तरीके से अपने मताधिकार का प्रयोग करने की अपील की करते हुए कहा कि सभी मतदाता बिना किसी दबाव या प्रलोभन के निर्भय होकर जिम्मेदार नागरिक के रूप में लोकतंत्र के पर्व में अपनी भूमिका सजगता से निभाएं। उन्होंने बताया कि द्वितीय चरण के लोकसभा निर्वाचन क्षेत्रों में 24 पुलिस जिलों के तहत 28 हजार 105 मतदान केन्द्र और 651 सहायक मतदान केन्द्र बनाए गए हैं। इन मतदान केन्द्रों में से क्रिटीकल और कानून एवं व्यवस्था की दृष्टि से संवेदनशील मतदान केन्द्रों पर पर्याप्त संख्या में पुलिस कर्मियों, होमगार्ड्स, आरएसी तथा केन्द्रीय सशस्त्र बलों के जवानों को निर्वाचन आयोग द्वारा निर्धारित नॉर्म के अनुसार तैनात किया गया है।

डीजीपी ने आगे बताया कि इन लोकसभा निर्वाचन क्षेत्रों के प्रत्येक मतदान केन्द्र पर एक पुलिसकर्मी को नियोजित किया गया है, जो मतदाताओं की कतार बनवाने, अनुमत पहचान पत्र की प्राथमिक जांच के बाद मतदाता को मतदान केन्द्र में प्रवेश देने, मतदान केन्द्र पर कानून एवं व्यवस्था बनाए रखने और चुनाव प्रक्रिया के दौरान ईवीएम को सुरक्षा प्रदान करेंगे। मतदाताओं की भीड़ नियंत्रण के लिए 2 या 3 मतदान केन्द्रों वाले पोलिंग स्टेशन लोकेशन (पीएसएल) पर एक अतिरिक्त होमगार्ड तथा 4 या अधिक मतदान केन्द्रों वाले पीएसएल पर दो अतिरिक्त होमगार्ड्स लगाए गए है। वहीं सहायक मतदान केन्द्रों पर एक-एक होमगार्ड लगाया गया है। 

डीजीपी ने बताया कि प्रदेश में लोकसभा चुनावों के द्वितीय चरण के निर्वाचन क्षेत्रों के सीमावर्ती राज्यों उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश एवं गुजरात से लगने वाली राजस्थान की सीमाओं को सील करते हुए चैक पोस्ट स्थापित की गई है। इन पर निरंतर चैकिंग हो रही है। इन मचैक पोस्ट पर 5 पुलिसकर्मी एवं 5 होम गार्ड्स का जाप्ता नियोजित कर सीसीटीवी कैमरों और वीडियोग्राफी के जरिए राउंड द क्लॉक मॉनिटरिंग की जा रही है। 

और पढ़ें