अजमेर। किशनगढ़ MLA डॉ. विकास चौधरी का संघर्ष

किशनगढ़ MLA डॉ. विकास चौधरी का संघर्ष

किशनगढ़ MLA डॉ. विकास चौधरी  का संघर्ष

अजमेर।  जिले की किशनगढ़ विधानसभा सीट से कांग्रेस प्रत्याशी डॉ. विकास चौधरी ने 3620 वोट से जीत हासिल की है। निर्दलीय सुरेश टाक दूसरे नंबर पर और भाजपा के सांसद भागीरथ चौधरी तीसरे नंबर पर रहे। अजमेर लोकसभा सीट से सांसद भागीरथ चौधरी को बीजेपी ने यहां से चुनाव लड़वाया था, पर कोई फायदा नहीं हुआ. उन्हें हार का सामना करना पड़ा. साल के लोकसभा चुनाव में जीत हासिल कर वह सांसद बने थे.  साल 2018 के चुनाव में विकास चौधरी अजमेर के किशनगढ़ से भाजपा के प्रत्याशी रहे थे, लेकिन अब वह बीजेपी छोड़कर कांग्रेस में शामिल हो गए थे.

31 वर्षीय विकास चौधरी काफी पढ़े-लिखे नेता माने जाते हैं।  डॉ. विकास चौधरी ने अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद से छात्र राजनीति की शुरुआत कर भीलवाड़ा और अजमेर जिले में एकमात्र किशनगढ़ विधानसभा क्षेत्र से कांग्रेस विधायक बने डॉ. विकास चौधरी महर्षि दयानंद सरस्वती विश्वविद्यालय अजमेर में छात्र संघ अध्यक्ष बने तब चारों सीटों पर अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद ने प्रथम बार कब्जा किया था। विकास चौधरी साधारण किसान परिवार में जन्मे स्टेशन मास्टर पिता के पुत्र हैं ।परिवार के सभी सदस्य आज भी ग्राम तिलोनिया में निवास कर रहे हैं । खेती बाड़ी और गाय भैंस का पालन कर परिवार आजीविका चलाता है ।

क्षेत्र में चर्चित रहने के कारण डॉ. विकास चौधरी पर युवा कवि, लेखक नवीन कुमार जोशी द्वारा रचित कविताएं देश-विदेश की पत्र पत्रिकाओं में प्रकाशित हो चुकी है। क्षेत्र में चर्चित रहने के कारण ही भाजपा ने 2018 के विधानसभा चुनाव में अंतिम समय में मौजूदा विधायक भागीरथ चौधरी का टिकट काटकर विकास चौधरी को टिकट दिया था । तत्कालीन विधायक भागीरथ चौधरी द्वारा भीतरघात करने पर 65 हजार वोट पाकर भी डॉ विकास चौधरी हार गए थे । 2018 के चुनाव में हार के बावजूद भी क्षेत्र में सक्रिय रहकर, आमजन के सुख-दु:ख में भागीदार बनकर सबके प्रिय बने।

अपने जन्मदिन पर रिकॉर्ड तोड़ मतदान करवा कर क्षेत्र में अपनी अलग छवि स्थापित कर चुके थे, 2023 के विधानसभा चुनाव में भाजपा ने नहीं दिया टिकट, क्षेत्र के जिताऊ और टिकाऊ चर्चित चेहरे की तलाश में बैठी कांग्रेस ने अपना प्रत्याशी बनाया । केंद्रीय आलाकमान और तत्कालीन मुख्यमंत्री गहलोत सहित सचिन पायलट की सोच पर खरे उतरे। विधानसभा चुनाव में विपरीत परिस्थितियों के बावजूद जीत हासिल की, मौजूदा निर्दलीय विधायक सुरेश टांक और मौजूदा सांसद भागीरथ चौधरी दोनों को एक साथ मात देकर विधायक बने है।  

और पढ़ें