राजस्थान

कांग्रेस पार्टी में गहलोत का कोई विकल्प नहीं

राजस्थान प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा के दिल्ली दौरे के बाद सीएम गहलोत अशोक गहलोत आज 27 फरवरी को दिल्ली जाएंगे।

सीएम रविवार सुबह 8 बजे विशेष विमान से दिल्ली के लिए रवाना होंगे। 9 बजे दिल्ली पहुंचने का कार्यक्रम है। सीएम गहलोत कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी से करेंगे मुलाकात। सीएम गहलोत के अचानक दिल्ली यात्रा का कारण स्थानीय कार्यक्रम बताया गया है।

हाल ही राजस्थान विधानसभा में प्रदेश के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने अपना अभूतपूर्व एवं लोकप्रिय बजट प्रस्तुत कर प्रदेश ही नहीं, राष्ट्रीय स्तर पर पार्टी का ध्यान आकर्षित किया है |

इस बार उनके सूझबूझ भरे तथा सभी वर्गों को आने वाले चुनावों के मद्देनजर समाहित करते हुए लाभान्वित करने का जो प्रयास किया है उससे कांग्रेस आलाकमान भी गदगद है | मुख्यमंत्री गहलोत की पुरानी पेंशन योजना और गरीबों हेतु बिजली की दरों में रियायत तथा किसानों को प्राथमिकता के साथ सहूलियत देने की सभी स्तरों पर प्रशंसा की जा रही है |

माना जा रहा है कि गहलोत कैबिनेट फेरबदल-2 पर चर्चा हो सकती है।

एक चर्चा यह भी पुरानी पेंशन स्कीम को कांग्रेस के चुनावी घोषणा पत्र में शामिल करने पर मंथन हो सकता है। गुजरात चुनाव से पहले पार्टी पुरानी पेंशन स्कीम के मुद्दे को देशभर में भुनाना चाहती है।
पिछले साल 21 नवंबर 2021 को गहलोत कैबिनेट का फेरबदल किया गया था। गहलोत कैबिनेट में पायलट कैंप को विशेष तरजीह मिली थी।

निर्दलीय जीत कर कांग्रेस में शामिल हुए विधायकों को कैबिनेट विस्तार में जगह नहीं मिल पाई थी। इन विधायकों ने पायलट कैंप की बगावत के समय सीएम गहलोत का साथ देकर सियासी संकट से उबार लिया था।

असंतुष्ट विधायकों की नाराजगी दूर करने के लिए सीएम गहलोत ने 1 दिसंबर 2021 को संकेत दिए थे कि राजस्थान में फिर कैबिनेट का फेरबदल होगा।

सीएम ने कहा, कई विधायक, जो कठिन समय के दौरान कांग्रेस के साथ खड़े रहे उन्हे हाल ही में नवंबर में किए गए कैबिनेट विस्तार और फेरबदल में शामिल नहीं किया जा सका है।

हम यह सुनिश्चित करेंगे कि उनके निर्वाचन क्षेत्रों में काम में बाधा न आए। पार्टी आलाकमान ने अनुमति दी तो उन्हे एक और फेरबदल के दौरान कैबिनेट में शामिल किया जाएगा।

राजस्थान प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा ने 25 फरवरी नई दिल्ली मे एआईसीसी मुख्यालय पर प्रेस वार्ता की थी। इस दौरान राजस्थान प्रदेश प्रभारी अजय माकन ने गहलोत सरकार के बजट की मुक्त कंठ से तारीफ की थी। अजय माकन ने कहा कि गहलोत सरकार ने पुरानी पेंशन लागू कर ऐतिहासिक कार्य किया है।

कांग्रेस सरकार शुरू से कर्मचारियों की हितैषी रही है। माकन ने गहलोत की मुक्त कंठ से तारीफ यह संदेश देने की कोशिश की है कि राजस्थान में किसी प्रकार का सियासी संकट नहीं है। सभी एकजुट है।


For More Updates Visit Our Facebook Page

Follow us on Instagram | Also Visit Our YouTube Channel

कांग्रेस पार्टी में गहलोत का कोई विकल्प नहीं

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

one + ten =

Back to top button